HomeTrending Topicरामरक्षा स्तोत्र:रामरक्षा स्तोत्र का पाठ क्यों करना चाहिए?.

रामरक्षा स्तोत्र:रामरक्षा स्तोत्र का पाठ क्यों करना चाहिए?.

कभी-कभी हमारे शारीरिक प्रणाम में एक अद्वितीय परिवर्तन को वैज्ञानिक सिद्धांतों के माध्यम से समझना मुश्किल हो सकता है। राम-राम जपने के असरों का विवरण एक नए प्रकार से स्थापित करने का प्रयास किया गया है।

रामरक्षा के शब्दों को सुना हो तो यह तो बहुत बार होगा, पर इसका असली अर्थ कई बार समझ में नहीं आता। रामरक्षा स्तोत्र का पाठ क्यों किया जाता है? किसी बुरी स्थिति में क्यों कहा जाता है, इसका सिद्धांत वैज्ञानिक रूप से विश्लेषित किया गया है।

1) ‘र’ अक्षर का महत्व: इस अक्षर का उच्चारण करते समय नाभि के पास का भाग, बांबी, को अंदर की ओर खींचा जाता है, जिससे हमारा मणिपुर चक्र सक्रिय हो जाता है। इस चक्र में गुरुत्वाकर्षण का केंद्र होता है, जिससे सात्विक गुणों की वृद्धि होती है और मन स्थिर होता है।

2) महत्वपूर्ण अंगों का नियंत्रण: रामरक्षा से जुड़े चक्रों और इंद्रियों को उत्तेजित करने में ‘र’ अक्षर का उच्चारण महत्वपूर्ण है। इससे ऊर्जा उत्पन्न होती है और नाड़ियों को शुद्ध और मजबूत किया जाता है, जिससे विभिन्न अंगों की स्थिति में सुधार होता है।

3) रामरक्षा में बुद्धिमान दृष्टिकोण: शास्त्रों में बताया गया है कि रामरक्षा में ‘र’ अक्षर का बार-बार जप करना मणिपुर चक्र को सक्रिय करता है और इससे उत्पन्न ऊर्जा विभिन्न रोगों को दूर करने में मदद करती है।

4) सच्चे स्वास्थ्य का कुंजी: यह विज्ञान बताता है कि मानव शरीर के विभिन्न अंगों का स्वास्थ्य मणिपुर चक्र की स्थिति पर निर्भर करता है। रामरक्षा जप से मन, शरीर, और आत्मा में सामंजस्य बना रहता है, जिससे सच्चे स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है।

5) रामरक्षा का अनुभव: इसी कारण सदियों से हमारे पूर्वजों ने रामरक्षा का जाप किया, ताकि उन्हें अच्छे स्वास्थ्य, मानसिक स्थिति, और आत्मा की शान्ति मिले। आज भी लोग इसे नियमित रूप से कर रहे हैं, और यह एक स्वस्थ जीवन की कुंजी सिद्ध हो रही है।

6) आध्यात्मिक संबंध: रामरक्षा का मूल उद्देश्य है मानव चेतना को ऊँचाइयों तक उत्कृष्ट करना। इस जप के माध्यम से व्यक्ति अपने आत्मा के साथ एकात्म्य की अनुभूति करता है, जिससे उसका आध्यात्मिक विकास होता है।

7) ध्यान और स्थिरता: रामरक्षा के जप के दौरान मन को शरीर के विभिन्न भागों पर स्थिर करने का प्रयास किया जाता है, जिससे ध्यान और स्थिरता की प्राप्ति होती है। ध्यान और स्थिरता के माध्यम से मानव अपनी आत्मा के साथ संबंधित होता है और जीवन को एक सकारात्मक दृष्टिकोण से देख पाता है।

8) अच्छे स्वास्थ्य का सूत्र: रामरक्षा जप से निरंतर आदत बनाए रखने से मानव शरीर के सभी अंग और ग्रंथियाँ स्वस्थ रहती हैं, जो अनेक बीमारियों को दूर करने में मदद करता है।

9) आत्म-जागरूकता: रामरक्षा जप का अभ्यास करते हुए व्यक्ति अपनी आत्म-जागरूकता में बढ़ता है और जीवन को एक सच्चे और उदार दृष्टिकोण से देखने की क्षमता प्राप्त करता है।

10) एक शांतिपूर्ण जीवन: रामरक्षा जप के प्रभाव से व्यक्ति अपने चिंता और अफसोस को कम करने में सफल होता है और एक शांतिपूर्ण जीवन जीने में समर्थ होता है।

इस प्रकार, रामरक्षा जप न केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बल्कि आत्मिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी एक अद्वितीय और शक्तिशाली माध्यम साबित होता है। इसे नियमित रूप से अपने जीवन में शामिल करके हम सब एक सुखी, स्वस्थ, और समृद्ध जीवन की ओर बढ़ सकते हैं।

उदाहरण के लिए हमारे शरीर में निम्नलिखित अंग/ग्रंथियाँ मणिपुर चक्र के नियंत्रण में हैं 

  • जिगर
    -अग्न्याशय
    -छोटी आंत
    -किडनी
  • एड्रिनल ग्रंथि
    -पित्ताशय की थैली

अगर मणिपुर चक्र गड़बड़ा जाए तो हो सकते हैं ये रोग
-अपच
-मधुमेह
-अम्लता
-अल्सर
-कोलाइटिस
-अपेंडिसाइटिस
-गुर्दे की पथरी
-नेफ्रोपैथी.

अधिवृक्क ग्रंथियों का उल्लेख ऊपर किया जा चुका है। ये ग्रंथियां एड्रेनालाईन और कोर्टिसोल नामक बहुत महत्वपूर्ण हार्मोन उत्पन्न करती हैं…

यदि एड्रेनालाईन का स्तर बिगड़ जाए तो निम्नलिखित परिणाम होते हैं-
हाई बी.पी
उच्च शर्करा
अवसाद

जब हमें कोई बुरी खबर मिलती है तो हमारी हृदय गति बढ़ जाती है, बीपी बढ़ जाता है, डर बढ़ जाता है, उत्तेजना बढ़ जाती है, चिंता बढ़ जाती है…

ऐसा क्यों?????
तो उस समय हमारी एड्रिनल ग्रंथियां बहुत उत्तेजित हो जाती हैं। इसे ही हम पेट में गड्ढा या छाती में गड्ढा कहते हैं। यह आघात हृदय पर नहीं बल्कि हमारे मणिपुर चक्र पर होता है लेकिन इसका प्रभाव हृदय पर पड़ता है।

तब हमारा सिस्टम उस दबाव को मुक्त करने के लिए तुरंत सक्रिय हो जाता है। कुछ लोगों को तुरंत पेशाब लग जाता है, कुछ लोगों को तुरंत टॉयलेट जाना पड़ता है… ऐसा होने पर यह समझा जाता है कि हमारा सिस्टम ठीक से काम कर रहा है। ऐसे में कई बूढ़े लोग रामरक्षा… का जाप करने लगते हैं.

सही?????
रामरक्षा क्यों?

मणिपुर चक्र का बीज अक्षर र है। आर का बार-बार जप हमारे मणिपुर चक्र को सक्रिय करता है और इससे जुड़े सभी अंगों/ग्रंथियों को उत्तेजित करता है… सरल शब्दों में यह चार्ज होता है और इसके निर्वहन को नियंत्रित करता है…

लेकिन अगर आप एक ही बात कहते रहेंगे तो यह उबाऊ हो जाएगा। हमारे ऋषि बुधकौशिक को इसका पक्का ज्ञान था इसलिए उन्होंने राम रक्षा स्तोत्र की रचना की।

रामरक्षा में R अक्षर कितनी बार आता है? इसकी जांच – पड़ताल करें। कल्पना कीजिए कि अगर इसे संशोधित किया जाए तो R का उच्चारण कितनी बार किया जाएगा! तो फिर सोचिये आपके मणिपुरचक्र पर कितनी बार चोट लगेगी। यदि आप किसी चक्र को सक्रिय करना चाहते हैं तो आपको उस पर ध्यान करना होगा।

यदि हम राम रक्षा का जाप करते समय अपनी आँखें बंद कर लें और अपना ध्यान मणिपुर चक्र पर केंद्रित करें, तो हमारा चक्र निश्चित रूप से सक्रिय हो जाएगा और ‘र’ अक्षर के निरंतर उच्चारण से उत्पन्न ऊर्जा उन चक्रों और इंद्रियों में नाड़ियों को शुद्ध और मजबूत करेगी। इसके नियंत्रण में… फलस्वरूप इससे जुड़ी बीमारियाँ भी खत्म हो जाएंगी।

इसीलिए पुराने लोग अपने पूर्वजों को किसी के मरने के बाद उनके अंतिम संस्कार में ले जाते समय राम बोलो भाई राम कहते थे…मन का दबाव क्यों हल्का किया जाए। हम अपना और दूसरों का स्वास्थ्य ठीक रखने के लिए एक-दूसरे को राम राम, आर आर…राम राम अक्षर दोहराकर रामराम कहते थे। हम भी कायम रख सकते हैं.

उस दिन से मैंने भी न केवल अपने ससुराल वालों को बल्कि फोन पर या कहीं भी मिलने वाले हर व्यक्ति को ‘राम-राम’ कहना शुरू कर दिया। आज मेरे दादा और ससुर दोनों इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उम्र के 42वें साल में मुझे राम नाम की इस शिदोरी का महत्व समझ में आने लगा।

लेकिन जब जागो तब सवेरा कहते हुए हमारे सपनों के शहर के सभी रक्षक आते ही राम-राम जपने लगे। अब वे भी पिछले डेढ़ साल से सबको राम-राम कहते हैं।

पहले गुड मॉर्निंग, गुड इवनिंग, हैलो, हाय जैसी बेमतलब की शुभकामनाएं देना बंद करने और जुबान बदलने में एक महीना लग जाता था। धीरे-धीरे इतनी आदत हो गई कि अब मुंह से अपने आप राम-राम निकलता है और सामने वाले के मुंह से भी वही राम-राम सुनाई देता है।

यह एहसास और अनुभव कि छोटे भाई-बहन, स्थानीय और विदेशी दोस्त भी आपसे उत्साह से बात करने लगते हैं, अविस्मरणीय है।
राम राम…

Amit Kumar
Amit Kumarhttps://trendworldnews.com/
Founder of Trend World News and I am a professional blogger, web design and SEO analyst, blog content writer, and social media specialist. With a BCA degree, they bring technical expertise and a passion for creating captivating online experiences. Their skills in web design, SEO, and content writing drive organic traffic and engage readers. As a social media specialist, they enhance brand visibility and foster connections with audiences. Continuously learning and staying up-to-date, I delivers exceptional results in the ever-evolving digital landscape.
RELATED ARTICLES

Leave a Reply

Most Popular